Tag Archives: Filmy

तुम मुझे भूल भी जाओ तो ये हक़ हैं तुमको मेरी बात और हैं मैंने तो मोहोब्बत की हैं – साहिर लुधियानवी


तुम मुझे भूल भी जाओ तो ये हक़ हैं तुमको मेरी बात और हैं मैंने तो मोहोब्बत की हैं मेरे दिल की मेरे जज़बात की कीमत क्या हैं उलझे उलझे से खयालात की कीमत क्या हैं मैंने क्यों प्यार किया … Continue reading

Posted in Audio, मूकेश, साहिर लुधियानवी, सुधा मल्होत्रा, सुधा मल्होत्रा, हिन्दी | Tagged , , , , | 2 ટિપ્પણીઓ

कुछ दिल ने कहा…


कुछ दिल ने कहा, कुछ भी नहीं… ऐसी भी बातें होती हैं, कुछ दिल ने कहा, कुछ भी नहीं… लेता है दिल अंगड़ाइयां, इस दिल को समझाये कोई अरमान ना आँखें खोल दें, रुसवा ना हो जाये कोई पलकों की … Continue reading

Posted in Audio, कैफी आजमी, लता मंगेशकर, हिन्दी, हेमंतकुमार | Tagged , , , , , , | Leave a comment

चली गोरी पी से मिलन को चली…..


चली गोरी पी से मिलन को चली चली गोरी पी से मिलन को चली नैना बावरिया मान में संवरिया चली गोरी पी से मिलन को चली चली गोरी पी से मिलन को चली नैना बावरिया मान में संवरिया चली गोरी … Continue reading

Posted in Audio, मझरूह सुलतानपूरी, हिन्दी, हेमंतकुमार, हेमंतकुमार | Tagged , , , , , , , | 2 ટિપ્પણીઓ

मीठे बोल बोले …


मीठे बोल बोले, बोले पायलिया छूम-छनन बोले, झनक-झन बोले मीठे बोल बोले … पग पग नाचे रे, घुंघरु की दासी इक पग राधा जैसी, इक पग मीरा जैसी सांवरे की बोली बोले पायलिया बोले मीठे बोल बोले … नैनों की … Continue reading

Posted in गुलज्ञार, भूपिन्दर सिंघ, लता मंगेशकर, हिन्दी, R.D.Burman | Tagged , , , , , , | Leave a comment

चमकते चाँद को टूटा हुआ तारा बना डाला – गुलाम अली


चमकते चाँद को टूटा हुआ तारा बना डाला मेरी आवारगी ने मुझको आवारा बना डाला बड़ा दिलकश बड़ा रंगीन है ये शहर कहते हैं यहाँ पर हैं हजारों घर घरों में लोग रहते हैं मुझे इस शहर ने गलियों का … Continue reading

Posted in Audio, आनंद बक्षी, आवाँरगी, गुलाम अली, हिन्दी, ગઝલ | Tagged , , , , , , | 3 ટિપ્પણીઓ

रिम-झिम गिरे सावन. . . . . .


लत्ता मंगेशकर : रिम-झिम गिरे सावन, सुलग सुलग जाए मन भीगे आज इस मौसम में, लगी कैसी ये अगन रिम-झिम गिरे सावन … पहले भी यूँ तो बरसे थे बादल, पहले भी यूँ तो भीगा था आंचल अब के बरस … Continue reading

Posted in Audio, किशोरकुमार, योगेश, लता मंगेशकर, हिन्दी, R.D.Burman | Tagged , , , , , | 2 ટિપ્પણીઓ

कहाँ से आए बदरा…..


कहाँ से आए बदरा घुलता जाए कजरा कहाँ से आए बदरा घुलता जाए कजरा पलकों के सतरंगे दीपक बन बैठे आँसू कि झालर मोती का अनमोलक हीरा मिट्टी मे जा फिसला कहाँ से आए बदरा … नींद पिया के संग … Continue reading

Posted in Audio, ईंदु जैन, यसुदास, राजकमल, हिन्दी, हेमंती शुक्ला | Tagged , , , , , | Leave a comment