Republic Day – गंगा बहती हो क्यूँ ?


૨૬મી જાન્યુઆરી ૨૦૧૩ના રોજ એટ્લે કે આજે આપણે ૬૩મો પ્રજાસત્તાક દિન ઉજવી રહ્યા છીએ ત્યારે ગર્વની લાગણીની અનુભવાય છે. પણ સાથે સાથે હાલની પરિસ્થિતિની વિષમતા પણ અવગણી શકા તેમ નથી. આઝાદી મેળવ્યાને આજે અડ્ધી સદી જેટલો સમય થઈ ગયો હોવા છતાં લોકો પોતાની સ્વાર્થી વ્રુતિથી દેશને જ નહી પોતાને પણ ગુલામ બનાવી રહ્યા છે. ભષ્ટાચાર, અત્યાચાર, અનીતિ અને અરાજકતાએ માઝા મૂકી છે….

……..ત્યારે ભૂપેન હઝારિકાનુ આ ગીત કદાચ આપણી સૌની વેદનાને વાચા આપે છે…. ગંગા નદીને આપણે સહુ માતા ગણીએ છીએ. અહીં, ગંગા મૈયા પાસે એમના જ સંતાનો ફરિયાદ કરે છે તેમ જ મુશ્કેલીઓ અને અસહ્ય અત્યાચારો સામે લડવાનું જોમ માંગે છે, આશિષ માંગે છે…..

विस्तार है अपार, प्रजा दोनों पार, करे हाहाकार नि-शब्द सदा,
ओ गंगा तुम, ओ गंगा बहती हो क्यूँ ?……………..

विस्तार है अपार, प्रजा दोनों पार, करे हाहाकार नि-शब्द सदा,
ओ गंगा तुम, ओ गंगा बहती हो क्यूँ ?……………..
नैतिकता नष्ट हुई, मानवता भ्रष्ट हुई,
निर्लज्ज भाव से बहती हो क्यूँ?……..
इतिहास की पुकार, करे हुंकार,
ओ गंगा की धार, निर्बल जन को,
सबलसंग्रामी, समग्रोग्रामी, बनाती नहीं हो क्यूँ ?…………….

विस्तार है अपार, प्रजा दोनों पार, करे हाहाकार नि-शब्द सदा,
ओ गंगा तुम, ओ गंगा बहती हो क्यूँ ?……………..
अनपढ़ जन, अक्षरहीन, अनगिनजन, खाद्योविहीन, नेत्र विहीन, दिक्षमौन हो क्यूँ ?…….
इतिहास की पुकार, करे हुंकार, ओ गंगा की धार, निर्बल जन को,
सबलसंग्रामी, समग्रोग्रामी, बनाती नहीं हो क्यूँ ?…………….

विस्तार है अपार, प्रजा दोनों पार, करे हाहाकार नि-शब्द सदा,
ओ गंगा तुम, ओ गंगा बहती हो क्यूँ ?……………..
व्यक्ति रहे, वयाक्ष्टि निर्विघ्न, सकल समाज, वयाक्ष्तित्व रहित,
निष्प्राण समाज, उपभोक्तिना क्यूँ ?………..
इतिहास की पुकार, करे हुंकार, ओ गंगा की धार, निर्बल जन को,
सबलसंग्रामी, समग्रोग्रामी, बनाती नहीं हो क्यूँ ?…………….

विस्तार है अपार, प्रजा दोनों पार, करे हाहाकार नि-शब्द सदा,
ओ गंगा तुम, ओ गंगा बहती हो क्यूँ ?……………..
तेजस्विनी, क्यूँ ना रही, तुम निश्चय, चिंतन नहीं,
प्राणों में प्रेरणा देती ना क्यूँ ?……………
तुम मध्यवामी, कुरुषेत्र ग्रामी, गंगे जननी, नवभारत में,
भीस्म रूपी सूत सम्रजेय, जनती नहीं हो क्यूँ ?………….

विस्तार है अपार, प्रजा दोनों पार, करे हाहाकार नि-शब्द सदा,
ओ गंगा तुम, ओ गंगा बहती हो क्यूँ ?……………..
विस्तार है अपार, प्रजा दोनों पार, करे हाहाकार नि-शब्द सदा,
ओ गंगा तुम, गंगा तुम, गंगा तुम,
ओ गंगा तुम, गंगा तुम,

गंगा बहती हो क्यूँ ?……………..

Advertisements

मैं तो भूल चली बाबुल का देस


मैं तो भूल चली बाबुल का देस
पिया का घर प्यारा लगे
कोई मैके को दे दो संदेस
पिया का घर प्यारा लगे

ननदी में देखी है बहना की सूरत
सासू जी मेरी है ममता की मूरत
पिता जैसा, ससुर जी का भेस, पिया …

चँदा भी प्यारा है सूरज भी प्यारा
पर सबसे प्यारा है सजना हमारा
आँखें समझे जिया का संदेस, पिया …

बैठा रहे सैयां नैनों को जोड़े – २
इक पल वो मुझको अकेला ना छोड़े
नहीं जिया को कोई क्लेश, पिया …

ताल से ताल मिला


એક એવું ગીત જે સંપૂર્ણ વર્ષામય છે. જેનાં એક એક શબ્દમાં વરસાદના એક એક ટીપાં સમી તાજગી છે. ધરાને જ્યરે પહેલાં વરસાદનો છાંટો વાગે છે ત્યારે ધરા પોતાની મીઠી વેદનાને સૂરમય બનાવી તે સંગીતમાં ગુલતાન થઈ અનોખું ગીત ગાય છે. વરસાદની બુંદો ધરતી પર પડતાં જે તાલ આપે છે, ધરતી પોતાની જે અનેરી સોડમ પસારે છે અને સમગ્ર પ્રક્રુતિ જે સૂર છેડે છે એનાં સંયોજનથી જ આ ગીત ઉદિત થયુ હોય એવુ ભાસે છે.

આ ગીત સાંભળ્યાને કદાચ ખાસ્સો સમય વીતી ગયો હશે. તો ચાલો વરસાદના બહાને યાદ તાજી કરી લઈએ. આ ગીતનુ picturization ઘણું જ સરસ છે. એ માટે Audio તેમ જ Video બંને link આપી છે. આશા છે આપને જરૂર ગમશે. 🙂

दिल ये बेचैन वे, रस्ते पे नैन वे
दिल ये बेचैन वे, रस्ते पे नैन वे
जिन्दरी बेहाल है, सुर है न ताल है
आजा साँवरिया, आ, आ, आ
ताल से ताल मिला, हो ताल से ताल मिला

सावन ने आज तो मुझ को भिगो दिया
हाय मेरी लाज ने, मुझ को डुबो दिया
ऐसी लगी चढ़ी सोचूँ मैं ये खड़ी
कुछ मैं ने खो दिया, क्या मैं ने खो दिया
चुप क्यों है बोल तू, संग मेरे डोल तू
मेरी चाल से चाल मिला, ताल से ताल मिला
ओ, ताल से ताल मिला …

माना अंजान है तू मेरे वास्ते
माना अंजान हूँ मैं तेरे वास्ते
मैं तुझ को जान लूँ, तू मुझ को जान ले
आ दिल के पास आ, इस दिल के रास्ते
जो तेरा हाल है, वो मेरा हाल है
इस हाल से हाल मिला, ओ ताल से ताल मिला
ओ, ताल से ताल मिला

दिल ये बेचैन वे, रस्ते पे नैन वे
जिन्दरी बेहाल है, सुर है न ताल है
आजा साँवरिया, आ, आ, आ
ताल से ताल मिला, हो ताल से ताल मिला -३

मुझे जाँ न कहो मेरी जाँ


આ ગીત ૭૦ના દાયકાનુ છે. છતાં ઘોંઘટરહિત સંગીત ઘણું તાજગીસભર છે. વરસાદ દાંપત્યજીવનને કેટલું મઘમઘતું કરુ શકે છે એ અહીં જોઈ શકાય છે. સાંસારિક જીવનના પ્રખર તાપને વરસાદનુ Time Please છે. વ્હાલની વાંછટ પડવાથી હૈયાંની ભોમ નવી સુગંધ પ્રસરાવે છે, નવાં સૂર છેડે છે.
એ ઉપરાંત ગીત દતનો માદક અવાજ !!
બસ, પછી તો આ ગીત ભીંજાતી ક્ષણોને વધારે સુગંધીત ન કરી મૂકે તો મને કહેજો ! 🙂

मेरी जाँ, मुझे जाँ न कहो मेरी जाँ
मेरी जाँ, मेरी जाँ
मुझे जाँ न कहो मेरी जाँ
मेरी जाँ, मेरी जाँ

(जाँ न कहो अंजान मुझे
जान कहाँ रहती है सदा ) – २
अंजाने, क्या जाने
जान के जाए कौन भला
मेरी जाँ
मुझे जाँ न कहो मेरी जाँ …

सूखे सावन बरस गए
कितनी बार इन आँखों से
दो बूँदें ना बरसे
इन भीगी पलकों से
मेरी जाँ
मुझे जाँ न कहो मेरी जाँ …

(होंठ झुके जब होंठों पर
साँस उलझी हो साँसों में ) – २
दो जुड़वाँ होंठों की
बात कहो आँखों से
मेरी जाँ
मुझे जाँ न कहो मेरी जाँ …