कुछ दिल ने कहा…


sharmila

कुछ दिल ने कहा, कुछ भी नहीं…
ऐसी भी बातें होती हैं,
कुछ दिल ने कहा, कुछ भी नहीं…

लेता है दिल अंगड़ाइयां, इस दिल को समझाये कोई
अरमान ना आँखें खोल दें, रुसवा ना हो जाये कोई
पलकों की ठंडी सेज पर, सपनों की परियां सोती हैं
ऐसी भी बातें होती हैं,
कुछ दिल ने कहा, कुछ भी नहीं…

दिल की तस्सली के लिये, झूठी चमक झूठा निखार
जीवन तो सूना ही रहा, सब समझे आयी हैं बहार
कलियों से कोई पूछता, हंसती हैं वो या रोती हैं
ऐसी भी बातें होती हैं,
कुछ दिल ने कहा, कुछ भी नहीं…

Advertisements

चली गोरी पी से मिलन को चली…..






चली गोरी पी से मिलन को चली
चली गोरी पी से मिलन को चली
नैना बावरिया मान में संवरिया

चली गोरी पी से मिलन को चली
चली गोरी पी से मिलन को चली
नैना बावरिया मान में संवरिया
चली गोरी पी से मिलन को चली
चली गोरी पी से मिलन को चली

दार के कजरा लट बिखरा के
दार के कजरा लट बिखरा के
ढलते दीं को रात बनाके
कंगना खनकती बिंदिया चमकती
कंगना खनकती बिंदिया चमकती
चम् चम् डोले सजना की गली
चली गोरी पी से मिलन को चली
चली गोरी पी से मिलन को चली
नैना बावरिया मान में संवरिया
चली गोरी पी से मिलन को चली
चली गोरी पी से मिलन को चली

कोमल तन है सांवल काया
हो गयी बैरन अपनी ही छाया
कोमल तन है सांवल काया
हो गयी बैरन अपनी ही छाया
घूंघट खोले ना मुख से बोले ना
घूंघट खोले ना मुख से बोले ना
राह चलत संभली संभली

चली गोरी पी से मिलन को चली
चली गोरी पी से मिलन को चली
नैना बावरिया मान में संवरिया

चली गोरी पी से मिलन को चली
चली गोरी पी से मिलन को चली

पिया ऐसो जिया में समाय गयो रे ….


पिया ऐसो जिया में समाय गयो रे
कि मैं तन मन की सुध बुध गवाँ बैठी
हर आहट पे समझी वो आय गयो रे
झट घूँघट में मुखड़ा छुपा बैठी
पिया ऐसो जिया में समाय गयो रे …

मोरे अंगना में जब पुरवय्या चली
मोरे द्वारे की खुल गई किवाड़ियां
ओ दैया! द्वारे की खुल गई किवाड़ियां
मैने जाना कि आ गये सांवरिया मोरे
झट फूलन की सेजिया पे जा बैठी
पिया ऐसो जिया में समाय गयो रे …

मैने सिंदूर से माँग अपनी भरी
रूप सैयाँ के कारण सजाया
ओ मैने सैयाँ के कारण सजाया
इस दर से किसी की नज़र न लगे
झट नैनन में कजरा लगा बैठी
पिया ऐसो जिया में समाय गयो रे …

ये नयन डरे डरे…. – हेमंतकुमार


ये नयन डरे डरे, ये जाम भरे भरे
ज़रा पीने दो
कल की किसको खबर, इक रात होके निडर
मुझे जीने दो
ये नयन डरे डरे …

रात हसीं ये चाँद हसीं
पर सबसे हसीं मेरे दिलबर,
और तुझसे हसीं, और तुझसे हसीं तेरा प्यार
तू जाने ना
ये नयन डरे डरे …

प्यार मे है जीवन की खुशी
देती है खुशी कई गम भी,
मै मान भी लूँ, मै मान भी लूँ कभी हार
तू माने ना
ये नयन डरे डरे …